Don't Miss
Home / Sports / सुनील गावस्‍कर का सबसे बड़ा दर्द आया बाहर, कहा- ईमानदारी का सबूत देने के बावजूद छीनी गई कप्‍तानी | cricket – News in Hindi

सुनील गावस्‍कर का सबसे बड़ा दर्द आया बाहर, कहा- ईमानदारी का सबूत देने के बावजूद छीनी गई कप्‍तानी | cricket – News in Hindi

सुनील गावस्‍कर का सबसे बड़ा दर्द आया बाहर, कहा- ईमानदारी का सबूत देने के बावजूद छीनी गई कप्‍तानी

भारत ने वेस्‍टइंडीज के खिलाफ 1-0 से घरेलू सीरीज जीती थी (फाइल फोटो)

सुनील गावस्‍कर (Sunil Gavaskar) ने कहा कि वेस्‍टइंडीज के खिलाफ घरेलू सीरीज जीतने और उसमें 700 से अधिक रन बनाने के बावजूद उन्‍‍हें कप्‍तानी से हटा दिया गया था

नई दिल्‍ली. भारत के पूर्व दिग्‍गज क्रिकेटर सुनील गावस्‍कर (Sunil Gavaskar) का 40 साल पुराना दर्द बाहर आया है. उन्‍होंने अपने करियर के एक किस्‍से का खुलासा करते हुए कहा कि 1978- 1979 में बतौर कप्‍तान वेस्‍टइंडीज के खिलाफ घरेलू टेस्‍ट सीरीज जीतने के बावजूद उन्‍हें कप्‍तानी से हटा दिया गया था, जिसे लेकर वे काफी हैरान हैं. उस समय कैरेबियाई टीम ने 6 टेस्‍ट मैचों की सीरीज के लिए भारत का दौरा किया था, जिसे चेन्‍नई टेस्‍ट को तीन विकेट से जीतकर भारत ने 10 से अपने काम किया. इस सीरीज में गावस्‍कर ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 732 रन बनाए, मगर इसके बावजूद उन्‍हें कप्‍तानी से हटा दिया गया और उनकी जगह पर एस वेंकटराघवन के हाथों में टीम की कमान सौंपी गई.मिड डे में अपने कॉलम में गावस्‍कर ने लिखा कि वेस्‍टइंडीज के खिलाफ सीरीज जीतने के बाद भी मुझे कप्‍तानी से हटा दिया गया था, जबकि इस सीरीज में मैंने 700 से अधिक रन बनाए थे. अभी तक मुझे इसका कारण नहीं पता चला. उन्‍होंने लिखा कि उस समय मैं कैरी पैकर वर्ल्‍ड सीरीज से जुड़ने को तैयार था, इसी वजह से शायद उनसे कप्‍तानी ले ली गई थी. हालांकि चयन से पहले मैंने बीसीसीआई कॉन्‍ट्रैक्‍ट पर साइन किए थे, जिससे साबित हो रहा था कि मेरी ईमानदारी कहां हैं.

बेदी को टीम में बनाए रखने के लिए चयनकर्ताओं को मनाया
गावस्‍कर ने इसका भी खुलासा किया कि कैसे बिशन सिंह बेदी (Bishan Singh Bedi) को टीम में बनाए रखने के लिए चनकर्ताओं को उन्‍होंने मनाया. उन्‍होंने कहा कि समिति ने तीन मैचों के बाद ही बेदी को हटाने का फैसला कर लिया था. पाकिस्‍तान सीरीज के बाद कप्‍तान के तौर पर उनकी जगह लेने के बाद से ही चयनकर्ता उन्‍हें हटाना चाहते थे. गावस्‍कर ने कहा कि इसके बाद मैंने चयनकर्ताओं को समझाया कि वह अभी भी देश के सर्वश्रे)ठ बाएं हाथ के स्पिनर हैं. इसी वजह से बेदी को पहले टेस्‍ट में मौका दिया गया.यह भी पढ़ें:

भारत में TikTok बैन होने से डेविड वॉर्नर को ‘बड़ा नुकसान’, अश्विन ने फिल्‍मी अंदाज में कही बड़ी बात2 मैच के बाद ही रद्द हुई श्रीलंका की टी20 लीग, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

चयनकर्ता पाकिस्‍तान (Pakistan) के खिलाफ खराब प्रदर्शन के बाद वेस्‍टइंडीज के खिलाफ घरेलू सीरीज से बेदी को बाहर करने वाले थे, मगर गावस्‍कर ने ऐसा नहीं होने दिया. हालांकि इसके बाद बेदी का करियर ज्‍सादा लंबा नहीं चला और 1979 में इंग्‍लैंड दौरा उनकी आखिरी टेस्‍ट सीरीज साबित हुई.

First published: June 30, 2020, 8:56 AM IST


Source link

About news4me

x

Check Also

Southampton manager Hasenhuettl to prioritise youth | Football News

Southampton’s manager Ralph Hasenhuettl. (AP Photo)Southampton manager Ralph Hasenhuettl says he will ...

%d bloggers like this: